Mera Ghar Parivar Essay Checker

“मेरी सरकार” के मंच पर “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” योजना के एसएमएस अभियान हेतु विषयवस्तु सुझाने के लिए एक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। इसके लिए हमें लगभग 2000 प्रविष्टियाँ प्राप्त हुईं जिनमें से 13 प्रविष्टियों को विजेता चुना गया है। विजेताओं के नाम निम्नलिखित है-

क्रमांकएसएमएस सामग्रीनाम और पता
1.Every Girl is precious. Educate a girl and strengthen the Nationश्रेया शाम,पुणे, महाराष्ट्र
2.When you educate a boy, you educate the present but when you educate a girl, you educate the future of your country.अमित मिश्रा, मनकापुर,उत्तर प्रदेश
3.She is mother, she is sister, she is wife, she should be your daughter. Beti Bachao Beti Padhaoसाईंराम नदीमपल्ली, मुरामल्ला, आंध्र प्रदेश
4.An educated son accommodates his family and an educated daughter accommodates two families and three generations.मनु शुक्ला,कानपुर, उत्तर प्रदेश
5.Man thinks he is a “HERO” but if he kills “HER” he’ll just remain a “0”.Educate our girl and you educate our Indiaभाविन ठाकरे,दोम्बिवली, महाराष्ट्र
6.She is Precious. She is Happiness. She is Stability. She is Life. She is her. Celebrate Her.राम एन,बैंगलोर, कर्नाटक
7.The happiness of a nation lies in the dignity of its daughters. Beti Bachao Beti Padhaoअजय अग्रवाल, दिल्ली,दिल्ली (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र)
8.बेटी बचाएंगे तो संस्कृति बचाएंगे ओर बेटी पढाओगे तो भविष्य बनाओगेलक्ष्मीकांत जैन, औरंगाबाद, महाराष्ट्र
9.करें शादी सादगी से दहेज़ दें सीर्फ विद्या का प्रदीप शाह, अहमदाबाद,गुजरात
10.शिक्षित बेटी का मतलब शिक्षित परिवार और शिक्षित राष्ट्रआलोक त्रिपाठी, मुंबई
11.बेटी है वरदान, इसका करो सम्मानअजय चौबे, सिंगरौली, मध्य प्रदेश
12.जब बेटी की होगी प्रगति, घर की होगा सर्वोन्नतिआर. कामथ, अनुविजय टाउनशिप, तमिलनाडु
13.हो शिक्षित बहू और बेटी, तो बने विकसित कुल और कुटुम्बक्षामा अग्रवाल, कोलकाता, पश्चिम बंगाल

 

चूँकि विजेता के रूप में 6 से अधिक प्रविष्टियाँ चुनी गई हैं, इसलिए पुरस्कार में दी जाने वाली राशि को 13 विजेताओं में सामान रूप से बाँटा जाएगा।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की “बेटी बचाओ, बेटी पढाओ” पहल पर कार्य कर रहा समूह, जल्द ही आपसे संपर्क करेगा!

प्रधानमंत्री आवास योजना ऑनलाइन आवेदन|पीएम शहरी आवास योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन|प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अप्‍लाई |Online Application Pradhan Mantri Awas Yojana in Hindi

प्यारे देशवासियों आप सभी को यह जानकर खुशी होगी कि हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपना घर का सपना पूरा किया है|प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत अब हर कोई घर ले सकता है |तथा उस का सपना पूरा हो सकता है |अन्यथा गरीब लोग तो यह सपना ही देखते थे | किअपना घर हो परंतु यह सपना उनका हकीकत नहीं बन पाता था परंतु मोदी जी ने यह सच कर दिखाया है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में आवेदन करके आप अपने घर का सपना पूरा कर सकते हैं|

प्रधानमंत्री आवास योजना 2018 ग्रामीण आवेदन

डिजिटल इंडिया मिशन देश को बदल रहा है। ऐसे में IT मंत्रालय और शहरी मंत्रालय की इस संयुक्त पहल के जरिए ज्यादा से ज्यादा शहरी गरीब प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों के लिए आवेदन कर सकेंगे|

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) [पीएमएवाई{यू}] के अंतर्गत संबंधित शहरी स्थाानीय निकायों द्वारा नि:शुल्कव ऑफलाइन एवं ऑनलाइन मांग सर्वेक्षण किया जाता है। पात्र लाभार्थियों द्वारा स्वरयं भी मंत्रालय की वेबसाईट के माध्यऑम से ऑनलाइन पंजीकरण किया जा सकता है । राज्यों /संघ राज्ये क्षेत्रों की सरकार द्वारा कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से भी पंजीकरण की सुविधा नाममात्र की लागत रूपये 25/- (वस्तु एवं सेवा कर अतिरिक्त) पर उपलब्ध कराया जा रहा है l

सर्व साधारण को यह भी सूचित किया जाता है कि इस मंत्रालय ने पीएमएवाई(यू) मिशन के अंतर्गत किसी प्रकार का लाभ प्राप्त करने के लिए किसी निजी संस्थान अथवा व्यनक्ति को धनराशि एकत्र करने हेतु प्राधिकृत नहीं किया है । नागरिकों को यह परामर्श दिया जाता है कि वे इस संबंध में किसी प्रकार का संदेह होने के मामले में निम्नदलिखित संपर्क नम्बकर/ई-मेल आईडी पर सत्या्पन कर सकते हैं ।

श्री आर.एस. सिंह
निदेशक (एचएफए-I), 
आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय,
कमरा सं. 219, जी विंग, एनबीओ बिल्डिंग,
निर्माण भवन, 
नई दिल्लीव-110011 
दूरभाष -011-23060484
ई-मेल: pmaymis-mhupa@gov.in

  1. सरकार अगले तीन वर्षों में ग्रामीण गरीबों के लिए 1 करोड़ पक्के (स्थायी) घरों का निर्माण करेगी।
  2. वर्ष 2022 तक पूरे देश के ग्रामीण इलाकों में पीएमए-जी के तहत कुल 4 करोड़ घरों का निर्माण किया जाएगा।
  3. इस योजना से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन को बढ़ावा देने की उम्मीद है।
  4. यह परियोजना 2016-17 से 2018-19 तक तीन वर्षों की अवधि में 81,975 करोड़ रुपए के बजट के साथ लागू की जाएगी।
  5. कुल अनुमानित व्यय का, 60,000  रु करोड़ बजटीय आवंटन से आएंगे और शेष नाबार्ड के माध्यम से आएंगे।
  6. यूनिट (घर) सहायता की लागत मध्य और राज्य सरकारों के बीच सादा क्षेत्रों में 60:40 और उत्तरी-पूर्वी और पहाड़ी राज्यों के लिए 90:10 के बीच साझा की जानी है।
  7. 2011 के सामाजिक-आर्थिक जाति की जनगणना से ली गई आंकड़ों के अनुसार ग्रामीण घरों के लाभार्थियों का चयन किया जाएगा
  8. सादा क्षेत्रों में 120,000 रु का भत्ता और पहाड़ी क्षेत्रों में 130,000 रु। घरों के निर्माण के लिए प्रदान किए जाएंगे।
  9. स्वच्छ खाना पकाने के लिए एक समर्पित क्षेत्र सहित, यूनिट का मौजूदा आकार 20 वर्ग मीटर से 25 वर्ग मीटर तक बढ़ाया जाएगा।
  10. शौचालयों की 12000 रु और 90/95 दिनों के मजदूरी, मनरेगा के तहत इकाई लागत से अधिक
  11. फंड को इलेक्ट्रॉनिक रूप से सीधे लाभार्थी के खाते में स्थानांतरित किया जाएगा।
  12. लाभार्थी को घर के निर्माण के लिए 70000 रूपए तक के ऋण का लाभ उठाने में मदद मिलेगी जो वैकल्पिक है।

    प्रधान मंत्री आवास योजना ग्रामीण लाभार्थियों का चयन:-

    लाभार्थियों की पहचान और चयन, ग्राम सभा के माध्यम से SECC 2011 list से, आवास की कमी और अन्य सामाजिक अभाव मापदंडों के आधार पर समुदाय द्वारा किया जाएगा।सरकार पीएमए-जी के लाभार्थियों की अंतिम सूची तैयार करने के लिए 6 कदम प्रक्रिया का पालन करती है।छह चरणों निम्नानुसार हैं:

    1. पात्र उम्मीदवारों की सूची तैयार करना
    2. सूची के भीतर लाभार्थियों की प्राथमिकता
    3. ग्राम सभा द्वारा प्राथमिकता सूची के सत्यापन
    4. अपीलीय समिति द्वारा शिकायत निवारण
    5. अंतिम प्राथमिकता सूची का प्रकाशन
    6. वार्षिक चयन सूचियों की तैयारी

Read here :प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना नई लाभार्थी सूची

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण नई लाभार्थी सूची

प्रधान मंत्री आवास योजना ग्रामीण ऑनलाइन आवेदन

  • प्रधानमंत्री आवास योजना में अपने के लिए ग्रामीणों को आवेदन करने के लिए यहां पर दिए गए वेबसाइट पर क्लिक करना होगा|
  • http://pmaymis.gov.in/
  • जैसे ही आप वेबसाइट पर क्लिक करेंगे आपको ग्रामीण प्रधानमंत्री आवास योजना में अप्लाई करने के लिए एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा|
  • अगर आप अभी किसी स्लम (गन्दी बस्ती) में रहते हैं तो “For Slum Dwellers” पर क्लिक करें 

http://pmaymis.gov.in/Open/Check_Aadhar_Existence.aspx?comp=a

  • इस एप्लीकेशन फॉर्म में अपनी सारी डिटेल भरें
  • परंतु ध्यान रहे डिटेल बिल्कुल सही होनी चाहिए
  • इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें
  • आप इसका प्रिंट आउट भी अपने पास संभाल कर रख सकते हो|

प्रधान मंत्री आवास योजना शहरी ऑनलाइन आवेदन

  •  प्रधान मंत्री आवास योजना के लिए  वेबसाइट pmaymis.gov.in पर जाएँ
  •  वेबसाइट पर जाने के  “Citizen Assessment” के लिंक पर  जाकर किसी एक विकल्प को चुनें।
  • अगर आप अभी किसी स्लम (गन्दी बस्ती) में रहते हैं तो “For Slum Dwellers” पर क्लिक करें अथवा “Benefit Under Other 3 Components” पर क्लिक करें।

  •  इस लिंक पर क्लिक करने के बाद अगली स्क्रीन आपको ऐसी दिखाई देगी जैसे की नीचे दी गयी है।
  • इस स्क्रीन पर आपको अपना आधार नंबर भरना है और “Check” पर क्लिक करना है।

  •  यदि आपका आधार नंबर सही है तो आपके सामने नीचे दिए गए फोटो के समान एक आवेदन पत्र खुलेगा जिसमें आपको अपनी सभी जानकारी भरनी होगी
  •  सबसे नीचे दिए गए “Submit / सुरक्षित” बटन पर क्लिक करना होगा। यदि आधार नंबर गलत है तो आप दोबारा सही आधार नंबर भरकर कोशिश करें।
  •  यदि आपके पास आधार नंबर ही नहीं है तो आप आवेदन नहीं कर पाएंगे।
  •  “Submit / सुरक्षित” बटन पर क्लिक करने के बाद आपकी स्क्रीन पर एक आवेदन क्रमांक दिया जाएगा |
  • जिसे आप प्रिंट कर सकते हैं|
  • इस आवेदन क्रमांक को कहीं भी लिख लें ताकि भविष्य में आप अपने आवेदन की स्थिति पता कर सकें।

प्रधानमंत्री आवास योजना फोन नंबर हेल्पलाइन नंबर यहां क्लिक करें और देखें

प्रधानमंत्री आवास योजना होम लोन लेने के लिए यहां पर क्लिक करें

मेरे प्यारे दोस्तों  प्रधान मंत्री आवास योजना  योजना से संबंधित यदि आपको कुछ पता नहीं चल रहा तो आप हमें कमेंट कर पूछ सकते हैं मैं आपके प्रश्नों का जवाब जरुर दूंगी कृपया कमेंट कर पूछें|दोस्तों कृपया मेरे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर करना ना भूले| आप  लेटेस्ट आर्टिकल्स को पढ़ सकते हो


Tags: प्रधान मंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना उत्तर प्रदेश

0 Thoughts to “Mera Ghar Parivar Essay Checker

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *